ब्रोंकाइटिस (श्वसनीशोथ) के कारण, लक्षण, निदान और घरेलू उपचार

ब्रोंकाइटिस क्या है (What is Bronchitis in Hindi)



  ब्रोंकाइटिस एक प्रकार की सूजन है जो वायुनालिका की श्लेष्मिक झिल्ली में होती है। इसी सूजन की वजह से वायुनालिका सिकुड़ जाती है और रोगी को साँस लेने में कठिनाई होती है। शरीर की इसी अवस्था को ब्रोंकाइटिस कहा जाता है। यह रोग अधिकतर बूजुर्ग तथा बच्चों को होती है।

ब्रोंकाइटिस के प्रकार (Types of bronchitis)


ब्रोंकाइटिस दो प्रकार के होते हैं-

1. तीब्र ब्रोंकाइटिस (Acute bronchitis)


तीव्र ब्रोंकाइटिस अल्पकालिक होती है।

ब्रोंकाइटिस
ब्रोंकाइटिस


2. दीर्घकालिक ब्रोंकाइटिस ( Chronic bronchitis)


दीर्घकालिक ब्रोंकाइटिस लम्बे समय तक रहता
है।

ब्रोंकाइटिस के कारण (Causes of bronchitis in Hindi)


रोगी धूल-धुंए के सम्पर्क में आ जाने के कारण उसकी श्वासनलिका प्रभावित हो जाती है। लंबे समय तक सर्दी-जुकाम का रहना, अत्यधिक धूम्रपान करना, लगातार खाँसी होना, बारिष में भीगना, गीले वस्त्रों को देर तक पहने रहना आदि कारणों से भी श्वासनलिका में शोथ हो जाती है।
 पूर्व में हुए रोग जैसे न्यूमोनिया, इन्फ्लूएंजा, खसरा, चेचक, मलेरिया, काला ज्वर, टायफॉइड, मसूरिका, काली खाँसी आदि के कारण से भी श्वासनलिका प्रभावित होकर ब्रोंकाइटिस हो जाता है। 
 बूजुर्ग एवं बच्चों में अधिकतर इस रोग का खतरा बना रहता है। क्योंकि उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी होती है। बच्चों को कैपिलरी ब्रोंकाइटिस हो सकती है जो कि बहुत ही घातक रोग है। इसके अतिरिक्त स्टेफीलो कोक्कई, न्युमो कोक्कोस जैसे कीटाणुओं की संक्रमण के कारण से भी ब्रोंकाइटिस हो सकता है।

ब्रोंकाइटिस के लक्षण (Symptoms of Bronchitis)


 ब्रोंकाइटिस की शुरुवाती अवस्था में रोगी को सर्दी-खाँसी होती है। शिरदर्द होती है। कई बार नाक की झिल्ली में प्रदाह भी हो जाता है। गले में खराश आती है। धीरे-धीरे खाँसी बढ़ने लगती है। खाँसी के साथ साथ हल्का अथवा तीव्र बुखार हो सकता है।
 ब्रोंकाइटिस की प्रारंभिक अवस्था में रोगी को सूखी खांसी होती है। छाती में बलगम जमने लगता है जिसके कारण रोगी को सांस लेने में परेशानी होती है। बुखार बढ़ जाता है। जीभ पर मैल जम जाती है। रोग बढ़ने के साथ साथ मूत्र की मात्रा कम होने लगती है।
 ब्रोंकाइटिस के उपसर्गों में ब्रोंको-न्यूमोनिया, लोवर न्यूमोनिया होता है। इस रोग को शुरुवाती चरण में ही सही चिकित्सा के द्वारा पूर्णरूप से ठीक किया जा सकता है। रोग बढ़ जाने के बाद यक्ष्मा (टी.बी), एम्फेसीया जैसे रोग हो सकते हैं। अतः ब्रोंकाइटिस के लक्षण दिखाई देते ही अपने चिकित्सक से सम्पर्क करें।

ब्रोंकाइटिस निदान (Diagnosis)


1. छाती की एक्स-रे (Chest X-Ray)- फेफड़ों की स्थितियाँ अध्ययन करने के लिए एक्स-रे किया जाता है।

2. थूक एवं बलगम की जाँच (Sputum Test)- विसाणुओं की उपस्थिति जानने के लिए ये टेस्ट किया जाता है।

3.एचआरसीटी (High Resolution Computed Tomography) - ब्रोंकाइटिस की गहरी अध्ययन करने के लिए कई बार चिकित्सक रोगी को HCRT CT Scan के लिए सुझाव देते हैं।

4. पी एफ टी (Pulmonary function test)- PFT फेफड़ों में वायु की पकड़ तथा मात्रा की अध्ययन हेतु किया जाता है।


ब्रोंकाइटिस की घरेलू चिकित्सा (Home Remedies for Bronchitis)


दवाओं का सेवन करने के साथ साथ हमें धूम्रपान, नशीली पदार्थों का सेवन, कोल्ड ड्रिंक्स, ठंडी चीजें और तेज मसालेदार खाद्यों को पूरी तरह से परहेज करनी चाहिए।
  • मेथी, बादाम की गिरी, कालीमिर्च मिलाकर रोज रात सोने से पहले एक हफ्ताह तक सेवन करें।
  • सेंधा नमक से स्नान करें।
  • दो चम्मच अदरक के चूर्ण में थोड़ी सी कालीमिर्च मिलाकर उबालें और इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में तीन बार पियें।
  • प्याज के रस में शहद मिलाकर 3/4 बार सेवन करें।
  • लहसुन के 4-5 कलियों को दूध में उबालकर रात को सोने से पहले लें।
  • तुलसी का काढ़ा बनाकर पियें।
  • सोंठ, कालीमिर्च और हल्दी मिलाकर पीस लें और पानी के साथ सुबह-शाम सेवन करें।
  • दालचीनी और शहद मिलाकर पियें।
  • गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीने से जल्द राहत मिलती है। पर अल्सर, पीलिया और पत्थर की रोगी इसे न लें।
  • गर्म पानी से गर्रारे करें।
  • दूध और शहद मिलाकर पियें।
  • बादाम खायें।
  • सरसों के तेल में हल्दी पकाकर छाती में लेपन करें। इससे छाती की दर्द से राहत मिलती है।

 प्रिय पाठकवृन्द, स्वस्थ्य-ज्योतिद्वारा प्रकाशित यह लेख आपको कैसी लगी कृपया कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट जरूर करें ताकि हम आनेवाले समय में आप सभी के लिए स्वस्थ्य सम्बन्धी ऐसे ही जानकारी तथा हेल्थ टिप्स लिख सकें। धन्यवाद

      "स्वच्छ रहें, स्वस्थ्य रहें"

ब्रोंकाइटिस (श्वसनीशोथ) के कारण, लक्षण, निदान और घरेलू उपचार ब्रोंकाइटिस (श्वसनीशोथ) के कारण, लक्षण, निदान और घरेलू उपचार Reviewed by Swasthya Jyoti on February 09, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.